एक दशक में 10 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा करने की जरूरत

News

एक दशक में 10 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा करने की जरूरत

एक दशक में 10 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा करने की जरूरत
एक दशक में 10 करोड़ रोजगार के अवसर पैदा करने की जरूरत
 

भारत को अगले एक दशक में जनसंख्या में युवा आबादी की वृद्धि को ध्यान में रखते हुये रोजगार के 10 करोड़ अवसर पैदा करने की जरूरत होगी।

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि रोजगार में वृद्धि होने से देश में आर्थिक वृद्धि की संभावनाओं में तेजी लाई जा सकती है और इसे अधिक समावेशी बनाया जा सकता है।

पीडब्ल्यूसी की रिपोर्ट, ‘नागरिक: बड़ पैमाने पर रोजगार सृजन के जरिये समावेशी वृद्धि’ में अगले दशक में देश मे रोजगार बढ़ाने के व्यावहारिक तरीके का उल्लेख किया गया है। इसमें कहा गया है कि किस तरीके से छोटे जिलों में देश के स्थानीय संसाधनों को बाजार से जोड़ने से बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर पैदा किए जा सकते हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है, ‘‘अगले दशक में हमें आस्ट्रेलिया की आबादी जितने पांच गुणा रोजगार के अवसरों का सृजन करना होगा। यह देश के सामने सबसे महत्वपूर्ण एजेंडा है। यदि इससे सोच विचार तथा ऊर्जावान तरीके से निपटा जाता है, तो हमारी वृद्धि बढ़ेगी जिससे इसे अधिक समावेशी बनाया जा सकेगा।’’

रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत को अपनी श्रमबल भागीदारी दर (एलएफपीआर) को बढ़ाने की जरूरत है। इसके लिए कार्यशील आबादी विशेष रूप से महिलाओं को अधिक अवसर उपलब्ध कराने पड़ेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.